Quick Feed

अदाणी डिफ़ेंस ने थेल्स से मिलाया हाथ, भारत में बनेंगे 70-मिमी के लेसर-गाइडेड रॉकेट, जानें सभी खासियतें

अदाणी डिफ़ेंस ने थेल्स से मिलाया हाथ, भारत में बनेंगे 70-मिमी के लेसर-गाइडेड रॉकेट, जानें सभी खासियतेंरक्षा विनिर्माण क्षेत्र में आत्मनिर्भरता हासिल करने की खातिर अदाणी डिफ़ेंस एंड एयरोस्पेस ने अहम कदम उठाते हुए भारतीय लड़ाकू हेलीकॉप्टरों के लिए 70-मिमी लेसर-गाइडेड रॉकेट बनाने के उद्देश्य से थेल्स ग्रुप के साथ हाथ मिलाया है.70-मिमी रॉकेट, लॉन्चर और फ़ायरिंग कंट्रोल सिस्टम के निर्माण के मामले में थेल्स दुनिया में अग्रणी कंपनी है, और वह दुनियाभर में 80 लाख रॉकेट बेच चुकी है. सटीक लेसर गाइडेंस की बदौलत 70-मिमी रॉकेट कई मिशनों को मुमकिन बना देते हैं, जाम किए जाने की प्रक्रियाओं से बेअसर होते हैं और गोला-बारूद को टारगेट तक पहुंचाने में सबसे ज़्यादा सटीक होते हैं. चॉपर-माउंटेड या हेलीकॉप्टर-माउंटेड रॉकेट सिस्टम के लिए इन्हें बेहतरीन माना जाता है.PRESS RELEASE :  करके दिखाया था. मिसाइल को 4.5 किलोमीटर की दूरी से दागा गया था और इसका डीविएशन (लक्ष्य से भटकना) एक मीटर से भी कम था. इन्हें शहरी इलाकों में कोलेटरल डैमेज को कम करने या जंग के मैदान में टैंकों और पैदल सेनाओं को नज़़दीकी हवाई मदद देने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.भारत के हमलावर बेड़े में ध्रुव हेलीकॉप्टर का हमलावर संस्करण एचएएल रुद्र, लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर प्रचंड, अपाचे एएच-64 और एमआई-35 हेलीकॉप्टर शामिल हैं. भारतीय वायुसेना और आर्मी एविएशन कोर द्वारा संचालित प्रत्येक प्रचंड हेलीकॉप्टर एक पॉड में 48 रॉकेट माउंट कर सकता है.स्वदेश निर्मित लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर प्रचंड को वर्ष 2022 में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था. यह लड़ाकू हेलीकॉप्टर हवा से ज़मीन और हवा से हवा में मिसाइलें दाग सकता है और कॉम्बैट सर्च और रेस्क्यू (CSAR), दुश्मन की हवाई रक्षा को तबाह करने (DEAD) और आतंकवाद विरोधी (CI) अभियानों समेत कई काम कर सकता है.लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर प्रचंड को समुद्रतल से बहुत ज़्यादा ऊंचाई वाले बंकर-बस्टिंग ऑपरेशनों, जंगलों और शहरी माहौल में आतंकवाद विरोधी अभियानों के अलावा ज़मीनी फ़ौजों का साथ देने के लिए भी तैनात किया जा सकता है.जून माह की शुरुआत में अदाणी डिफेंस और एयरोस्पेस ने दुनिया के अग्रणी अत्याधुनिक तकनीक और रक्षा समूहों में से एक – संयुक्त अरब अमीरात के EDGE ग्रुप के साथ ऐतिहासिक समझौता किया था, जिसका उद्देश्य दोनों कंपनियों की रक्षा और एयरोस्पेस क्षमताओं का फ़ायदा उठाते हुए ग्लोबल प्लेटफ़ॉर्म बनाना है, ताकि उनके सभी उत्पादों को साथ लाया जा सके और ग्लोबल और स्थानीय ग्राहकों की ज़रूरतों को पूरा किया जा सके.इस समझौते के तहत भारत और संयुक्त अरब अमीरात में आरएंडडी फैसिलिटी की स्थापना की संभावना को तलाशा जाएगा, और डिफ़ेंस और एयरोस्पेस सॉल्यूशनों के डेवलपमेंट, प्रोडक्शन और मैन्टेनैन्स फैसिलिटी की स्थापना की जाएगी, ताकि दो कैप्टिव बाज़ारों के साथ-साथ दक्षिण-पूर्व एशियाई और व्यापक ग्लोबल बाज़ार की ज़रूरतें भी पूरी की जा सकें.

सटीक लेसर गाइडेंस की बदौलत 70-मिमी रॉकेट कई मिशनों को मुमकिन बना देते हैं, जाम किए जाने की प्रक्रियाओं से बेअसर होते हैं और गोला-बारूद को टारगेट तक पहुंचाने में सबसे ज़्यादा सटीक होते हैं. चॉपर-माउंटेड या हेलीकॉप्टर-माउंटेड रॉकेट सिस्टम के लिए इन्हें बेहतरीन माना जाता है.
Bol CG Desk

Related Articles

Back to top button