Quick Feed

भोले बाबा 23 साल पहले आगरा में हुए थे गिरफ्तार, मरी हुई बेटी में जान फूंकने का किया था दावा

भोले बाबा 23 साल पहले आगरा में हुए थे गिरफ्तार, मरी हुई बेटी में जान फूंकने का किया था दावाउत्तर प्रदेश के हाथरस में मंगलवार को एक सत्संग में हुई भगदड़ में अब तक 121 लोगों की जान जा चुकी है. इस सत्संग में प्रवचन -देने वाले नारायण साकार हरि या साकार विश्व हरि उर्फ भोले बाबा सुर्खियों में हैं. उन्हें लेकर नए-नए खुलासे हो रहे हैं. पहले मैनपुरी में भोले बाबा के लग्जरी आश्रम का वीडियो सामने आया. अब उनका कच्चा चिट्ठा भी सामने आने लगा है. नारायण साकार हरि उर्फ सूरजपाल भोले बाबा के खिलाफ आगरा में साल 2000 में केस दर्ज हुआ था. मुर्दे में जान फूंकने वाले ‘चमत्कार’ के झूठा दावा करने के आरोप में उन्हें गिरफ्तार भी किया गया था. उस समय उनके अनुयायियों पर पुलिस ने लाठी भी चार्ज की थी. उसके बाद से भोले बाबा आगरा में अपने आश्रम नहीं आए हैं.NDTV के पास 2000 में भोले बाबा पर दर्ज हुए FIR की कॉपी है. FIR की कॉपी के मुताबिक, उस समय भोले बाबा पर औषधी और चमत्कारी उपचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज हुआ था. दिसंबर 2000 में साकार विश्व हरि भोले बाबा यानी सूरज पाल सहित 7 लोग गिरफ्तार हुए थे. हालांकि, सबूतों के अभाव में कोर्ट से सबको बरी कर दिया गया था.पंकज नाम के एक स्थानीय निवासी ने NDTV को 2000 की उस घटना के बारे में बताया है. पंकज ने बताया कि भोले बाबा क्यों दिसंबर 2000 के बाद से आगरा के इस आश्रम में नहीं आए हैं.कुछ देर में ही बच्ची की हो गई थी मौतहालांकि, होश में आने के कुछ ही देर बाद ही बच्ची की मौत हो गई. जब बच्ची का शव श्मशान घाट ले जाया गया, तो वहां बाबा भोले के अनुयायी इस बात पर अड़ गए थे कि बाबा आकर बच्ची को फिर जिंदा कर देंगे. हालात इस कदर बिगड़े कि चार चार थानों की फोर्स मौके पर जा पहुंची. पुलिस ने बाबा के अनुयायियों पर लाठीचार्ज की. भोले बाबा को भी गिरफ्तार कर लिया गया. पुपुलिस ने औषधि और जादुई उपचार (आपत्तिजनक विज्ञापन) अधिनियम 1954  के तहत मुकदमा दर्ज किया था. हालांकि, सबूत के अभाव में कोर्ट से सूरजपाल साकार हरि उर्फ भोले बाबा समेत 7 लोग बरी हो गए थे.NDTV के रिपोर्टरों की आंखोंदेखी: अस्पताल से ‘बाबा’ के घर तक पड़ताल, जानें किस हाल में हाथरस

भोले बाबा पर औषधी और चमत्कारी उपचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज हुआ था. दिसंबर 2000 में साकार विश्व हरि भोले बाबा यानी सूरज पाल सहित 7 लोग गिरफ्तार हुए थे. हालांकि, सबूतों के अभाव में कोर्ट से सबको बरी कर दिया गया था.
Bol CG Desk

Related Articles

Back to top button