Quick Feed

LIVE: बालक बुद्धि कहकर इनकी हरकतों को नहीं करना चाहिए नजरअंदाज… राहुल गांधी पर PM मोदी का तंज

LIVE: बालक बुद्धि कहकर इनकी हरकतों को नहीं करना चाहिए नजरअंदाज… राहुल गांधी पर PM मोदी का तंज18वीं लोकसभा के पहले सत्र का मंगलवार (2 जुलाई) को 7वां दिन है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के अभिभाषण से जुड़े धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा में चर्चा का जवाब दे रहे हैं. पीएम मोदी जैसे ही बोलने के लिए खड़े हुए, विपक्षी सांसदों ने जोरदार हंगामा कर दिया. कुछ देर पीएम ने अपनी बात रखी, लेकिन विपक्ष ने फिर से जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी. ऐसे में कुछ सेकेंड के लिए पीएम मोदी ने अपना भाषण रोक दिया और सीट पर बैठ गए. पीएम के संबोधन के बीच विपक्षी सांसद वेल में आकर नारेबाजी करने लगे. इसपर स्पीकर ओम बिरला भड़क गए. स्पीकर ने विपक्षी सांसदों को फटकार लगाई. उन्होंने नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी से कहा कि आपको 90 मिनट बोलने का मौका दिया. आप इतनी बड़ी पार्टी लेकर चल रहे हो, ऐसा नहीं चलता है. पांच साल ऐसे ही नहीं चलेगा.पीएम मोदी ने अपने भाषण में एक वादा किया. उन्होंने कहा- “हम 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने का संकल्प लेकर चले हैं. हमारे तीसरे टर्म में 3 गुना स्पीड से काम करेंगे, 3 गुना शक्ति लगाएंगे, देशवासियों को 3 गुना परिणाम लाकर के देंगे.” यहां पढ़िए पीएम मोदी के भाषण की खास बातें:-8. बालक बुद्धि कहकर हरकतों को नजरअंदाज न करेंमोदी ने कहा, “संविधान की गरिमा से खिलवाड़ सदन का दुर्भाग्य है. अनेक बार जीतकर आए लोग सदन की गरिमा से खिलवाड़ करें, ये शोभा नहीं देता. जो दल 60 साल तक यहां बैठा है, जो सरकार के काम को जानता है, जिसके पास अनुभवी नेताओं की श्रृंखला है, वह दल जब झूठ के रास्ते को चुन ले तब देश गंभीर संकट की ओर जा रहा है, इस बात का संकेत है. यह महापुरुषों का अपमान है, आजादी दिलाने वालों का अपमान है. आप सहृदयी हैं, अब जो हो रहा है, कल जो हुआ है, उसे गंभीरता से लिए बिना हम संसदीय लोकतंत्र को रक्षित नहीं कर पाएंगे. अब बालक बुद्धि कहकर के इन हरकतों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए. इसके पीछे इरादे नेक नहीं, गंभीर खतरे के हैं.” 1 जुलाई को मनाया गया खटाखट दिवसपीएम मोदी ने राहुल गांधी के एक बयान को लेकर भी तंज कसे. उन्होंने कहा, “देश ने 1 जुलाई को खटाखट दिवस भी मनाया है. 1 जुलाई को लोग अपने बैंक अकाउंट चेक कर रहे थे कि 8500 रुपये आए कि नहीं आए. झूठ नैरेटिव का परिणाम देखिए, कांग्रेस ने देशवासियों को गुमराह किया, माताओं-बहनों को हर महीने 8500 रुपये देने का झूठ. माताओं-बहनों के दिल को जो चोट लगी है, वह कांग्रेस को तबाह करने वाली है.” बालक बुद्धि किसी के भी गले पड़ जाते हैंपीएम मोदी ने कहा, “ये नया ड्रामा चलाया जा रहा है, लेकिन देश ये जानता है कि ये हजारो करोड़ रुपये की हेराफेरी के मामले में जमानत पर हैं, ओबीसी पर टिप्पणी के मामले में सजा पा चुके हैं. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर टिप्पणी को लेकर माफी मांगनी पड़ी है. इन पर वीर सावरकर के अपमान का मुकदमा है. इन पर देश की सबसे बड़ी पार्टी के अध्यक्ष को हत्यारा कहने का मुकदमा है. इन पर कई अदालतों में झूठ बोलने के केस हैं. बालक बुद्धि में न बोलने का ठिकाना होता है ना व्यवहार का ठिकाना होता है. बालक बुद्धि जब पूरी तरह से सवार हो जाती है तो ये सदन में भी किसी के गले पड़ जाते हैं.”हमने सदन ने कल बचकाना हरकत देखीपीएम मोदी ने राहुल गांधी का नाम लिए बिना तंज कसे. उन्होंने कहा, “आजकल सिम्पैथी गेन करने के लिए नई ड्रामेबाजी शुरू की गई है. नया खेल खेला जा रहा है. एक किस्सा सुनाता हूं. एक बच्चा स्कूल से आया और जोर-जोर से रोने लगा. उसकी मां भी डर गई क्या हो गया. वह कहने लगा मां मुझे स्कूल में मारा गया. आज उसने मारा, इसने मारा और रोने लगा. मां ने बात पूछी तो बता नहीं रहा था. बच्चा ये नहीं बता रहा था कि उस बच्चे ने किसी बच्चे को मां की गाली दी थी, किताबें फाड़ दी थी, टीचर को चोर कहा था, किसी का टिफिन चुराकर खा गया था. हमने कल सदन में यही बचकाना हरकत देखी है. कल यहां बालक बुद्धि का विलाप चल रहा था.” 99 सीटों के बहाने राहुल गांधी पर कसे तंजपीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के 99 सीटें जीतने पर राहुल गांधी का नाम लिए बिना तंज कसा. उन्होंने कहा, “कोई छोटा बच्चा साइकिल लेकर निकला. वह गिर गया, रोने लगा तो कोई बड़ा आकर कहता है कि देखो चींटी मर गई, चिड़िया मर गई. ऐसा कहकर बड़े बच्चे का मन बहला देते है. आजकल बच्चे का मन बहलाने का काम चल रहा है.”मोदी ने कहा, “1984 के चुनावों को याद कीजिए. तब से 10 लोकसभा चुनाव हो चुके हैं. तब से कांग्रेस 250 के आंकड़े को छू नहीं पाई है. इस बार 99 के चक्कर में फंस गए हैं. मुझे एक किस्सा याद आता है. एक बच्चा 99% मार्क्स लेकर घूम रहा था. लोगों की वाहवाही ले रहा था. टीचर ने कहा कि ये 100 से 99 नंबर नहीं लाया, 543 में से लाया है.”कांग्रेस को मिला विपक्ष में बैठने का जनादेशपीएम मोदी ने कहा, “लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए भी इस देश की जनता ने जनादेश दिया है. ये जनादेश है- वहीं बैठो. विपक्ष में ही बैठो और तर्क खत्म हो जाए तो चीखते रहो चिल्लाते रहो. कांग्रेस के इतिहास का ये पहला मौका है जब लगातार तीन बार कांग्रेस सौ का आंकड़ा पार नहीं कर पाई है. कांग्रेस के इतिहास में ये तीसरी सबसे बड़ी हार है. तीसरा सबसे खराब प्रदर्शन है.”#WATCH | Prime Minister Narendra Modi says, “…There was a period of scams when it was shamelessly accepted publicly that if 1 rupee is sent from Delhi, only 15 paise reaches. In 1 rupee, there is a scam of 85 paise. This world of scams had drowned the country in the depths of… pic.twitter.com/qyAnoKuOsV— ANI (@ANI) July 2, 2024प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “अच्छा होता कांग्रेस अपनी हार स्वीकार करती, जनता जनार्दन के आदेश को स्वीकार करती, आत्ममंथन करती. लेकिन ये तो शीर्षासन करने में लगे हैं. ये दिन-रात नागरिकों के मन में यह स्थापित करने में लगे हैं कि जनता ने हमें हरा दिया है. आजकल बच्चे का मन बहलाने का काम चल रहा है और कांग्रेस के लोग, उनका इकोसिस्टम ये मन बहलाने का काम कर रहा है.”#WATCH | PM Narendra Modi replies to Motion of Thanks on the President’s Address, in the Lok Sabha pic.twitter.com/gkFvdlA34T— ANI (@ANI) July 2, 20242024 से कांग्रेस बन गई परजीवीपीएम मोदी ने कहा, “मैं कांग्रेस के लोगों को कहूंगा कि जनादेश को फर्जी जीत के जश्न में मत दबाओ. फर्जी जीत के नशे में मत डुबाओ. ईमानदारी से जनादेश को समझने की कोशिश करो, उसे स्वीकार करो. मुझे नहीं पता कि कांग्रेस के जो साथी दल हैं, उन्होंने इस चुनाव का विश्लेषण किया है कि नहीं किया है. ये चुनाव इन साथियों के लिए भी एक संदेश है. अब कांग्रेस पार्टी 2024 से एक परजीवी कांग्रेस के रूप में जानी जाएगी. 2024 से जो कांग्रेस है, वो परजीवी कांग्रेस है और परजीवी वो होता है जो जिस शरीर के साथ रहता है, उसी को ही खाता है. कांग्रेस भी जिस पार्टी के साथ गठबंधन करती है, उसी के वोट खा जाती है और अपनी सहयोगी पार्टी की कीमत पर वो फलती-फूलती है और इसीलिए कांग्रेस, परजीवी कांग्रेस बन चुकी है.” जम्मू-कश्मीर की दीवार गिरी तो सब कुछ बदल गयापीएम ने अपने भाषण में जम्मू-कश्मीर का जिक्र किया. उन्होंने कहा, “आज देश का हर नागरिक जानता है कि वह कुछ भी कर सकता है. 370 ने जम्मू-कश्मीर के क्या हालात कर दिए थे? यहां संविधान को सिर पर रखकर नाचने वाले लोग वहां संविधान लागू करने से कतराते थे. लोग कहते थे- जम्मू-कश्मीर का कुछ नहीं हो सकता. जम्मू-कश्मीर की दीवार गिरी तो सबकुछ बदल गया. अब वहां लोग रिकॉर्ड संख्या में मतदान करने के लिए आ रहे हैं.”केरल में BJP ने खोला खातालोकसभा चुनाव के नतीजों का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि केरल में पहली बार BJP ने खाता खोला है. ओडिशा में हमें महाप्रभु जगन्नाथ का आशीर्वाद मिला है. तमिलनाडु में भी हमारा परफॉर्मेंस सुधरा है. आने वाले तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में हम जोरदार प्रदर्शन करेंगे. पीएम मोदी ने गिनाई अपनी सरकार की उपलब्धियांपीएम मोदी ने इस दौरान अपनी 10 साल के शासनकाल की उपलब्धियां भी गिनाईं. उन्होंने कहा, “10 साल में हमारी सरकार की कई सिद्धियां हैं. देश निराशा के गर्त से निकला. धीरे-धीरे देश के मन में स्थिर हो गया, जो 2014 से पहले कहते थे कि कुछ नहीं हो सकता. वो आज कहते हैं कि देश में सब संभव है. ये विश्वास जताने का काम हमने किया.”मोदी ने कहा, “आज देश कहने लगा तीव्र गति से 5जी का रोलआउट होना, देश कहने लगा भारत कुछ भी कर सकता है. कोयला घोटाले में बड़े-बड़ों के हाथ काले हो गए थे और आज कोयला प्रोडक्शन बढ़ा है. वो एक समय था 2014 से पहले जब फोन बैंकिंग करके बड़े बड़े घोटाले किए जा रहे थे. पर्सनल प्रॉपर्टी की तरह बैंक का खजाना लूट लिया गया था. 2014 के बाद नीतियों में परिवर्तन का परिणाम है कि दुनिया के अच्छे बैंकों में भारत के बैंकों का स्थान बन गया.”अब भारत के पास आतंक के आकाओं को सबक सिखाने का सामर्थ्य2014 के पहले वह भी एक वक्त था जब आतंकी आकर के जब जहां चाहें, हमला कर सकते थे. निर्दोष लोग मारे जाते थे, कोने-कोने को टारगेट किया जाता था और सरकारें मुंह तक खोलने को तैयार नहीं थीं. 2014 के बाद का हिंदुस्तान घर में घुसकर मारता है, सर्जिकल स्ट्राइक, एयरस्ट्राइक करता है और आतंक के आकाओं को भी सबक सिखाने का सामर्थ्य दिखा दिया है.”  2014 से पहले घोटाले का था कालखंड पीएम मोदी ने यूपीए के शासकाल का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि 2014 के उन दिनों को याद करेंगे, तो हमें ध्यान आएगा कि देश के लोगों का आत्मविश्वास खो चुका था. देश निराशा के सागर में डुबा था. 2014 के पहले देश ने जो सबसे बड़ा नुकसान भुगता था, अमानत खोई थी, वह था आत्मविश्वास. 2014 के पहले यही शब्द सुनाई देते थे- इस देश का कुछ नहीं हो सकता.  ये सात शब्द भारतीयों की निराशा की पहचान बन गए थे. अखबार खोलते थे तो घोटालों की खबरें ही पढ़ने को मिलती थीं. रोज नए घोटाले, घोटाले ही घोटाले. घोटालों की घोटालों से स्पर्धा, घोटालेबाज लोगों के घोटाले. भाई-भतीजावाद इतना फैला हुआ था कि सामान्य नौजवान तो आशा छोड़ चुका था कि अगर कोई सिफारिश करने वाला नहीं है तो जिंदगी ऐसे ही चलेगी.”मोदी ने कहा, “इस चुनाव में हम जनता के बीच एक बड़े संकल्प के साथ आशीर्वाद मांगने गए थे. हमने विकसित भारत के संकल्प और निर्माण के लिए आशीर्वाद मांगा था. हमने जनकल्याण के लिए आशीर्वाद मांगा था. लोगों ने हमें फिर से विजयी बनाकर सेवा करने का मौका दिया. 2014 के बाद घोटाले का कालखंड बदला है.”पीएम ने बताया विकसित भारत का मतलबपीएम मोदी ने अपने भाषण में विकसित भारत का मतलब भी बताया. उन्होंने कहा, “जब देश विकसित होता है, कोटि-कोटि जनों के सपने पूरे होते हैं, संकल्प सिद्ध होते हैं, आने वाली पीढ़ियों के लिए भी मजबूत नींव तैयार हो जाती है. विकसित भारत का सीधा-सीधा लाभ हमारे देश के नागरिकों की गरिमा, क्वालिटी ऑफ लाइफ में सुधार, स्वाभाविक रूप से भाग्य में आता है. आजादी के बाद सामान्य नागरिक इन चीजों के लिए तरसता रहा है. हमारे गांव, शहरों की स्थिति में भी बहुत बड़ा सुधार होता है. गांव के जीवन में गरिमा भी होती है, विकास के नए अवसर भी होते हैं.”पीएम मोदी ने कहा, “दुनिया की विकास यात्रा में भारत के शर भी बराबरी करेंगे, ये हमारा सपना है. विकसित भारत का मतलब होता है कोटि-कोटि नागरिकों को अनेक अवसर उपलब्ध होते हैं और वो अपनी क्षमता के अनुसार योगदान दे सकता है.  देशवासियों को विश्वास दिलाता हूं कि विकसित भारत के जिस संकल्प को लेकर हम चले हैं, उसकी पूर्ति के लिए हम भरसक प्रयास करेंगे, पूरी निष्ठा और ईमानदारी से करेंगे.”जनता ने तीसरी बार दिया सेवा करने का मौकामोदी ने कहा, “विश्व का सबसे चुनावी अभियान और इसमें हमें देश की जनता ने तीसरी बार सेवा करने का मौका दिया है. यह विश्व के लिए बहुत ही गौरवपूर्ण घटना है. हमें हम कसौटी पर कसने के बाद देश की जनता ने ये जनादेश दिया है. जनता ने देखा कि गरीबों के कल्याण के लिए हमने जिस समर्पण भाव से काम किया, उसके कारण 10 साल में 30 करोड़ गरीबी से निकले. इतने कम समय में इतने लोगों को गरीबी से बाहर निकलना हमारे लिए आशीर्वाद का कारण बना.”आजकल बच्चे का मन बहलाने का काम चल रहा है… PM मोदी बोले और हाथ से कुछ इशारा करते दिखे राहुल#LokSabha | #PMModiSpeech | #PMModi | #ParliamentSession pic.twitter.com/Cl23LHDfyj— NDTV India (@ndtvindia) July 2, 2024जनता ने देखा हमारे 10 साल का ट्रैक रिकॉर्ड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए कहा,”जनता ने हमारी 10 साल की सरकार का ट्रैक रिकॉर्ड देखा है. हमने जनसेवा ही ईश्वर सेवा को मंत्र बनाकर काम किया. देश ने हमें भ्रष्टाचार को लेकर जो जीरो टॉलरेंस नीति है, उसके लिए आशीर्वाद दिया है. आज विश्व में भारत का गौरव हो रहा है. दुनिया में साख बढ़ी है.”हमारा एकमात्र लक्ष्य नेशन फर्स्टपीएम मोदी ने कहा, “भारत को देखने का गौरवपूर्ण नजरिया भी हर भारतवासी अनुभव कर रहा है. हमारा एकमात्र लक्ष्य नेशन फर्स्ट है. भारत सर्वप्रथम है. हमारी हर नीति, हर निर्णय, हर कार्य का एक ही तराजू रहा है- भारत प्रथम. भारत प्रथम की भावना के साथ जो जरूरी रिफॉर्म थे, उनको भी लगातार जारी रखा है. 10 साल में हमारी सरकार सबका साथ, सबका विकास के मंत्र को लेकर के सबका कल्याण करने का प्रयास करती रही है.”#WATCH | PM Narendra Modi says, “…The country has blessed us for our zero-tolerance policy towards corruption. Today India’s credibility has increased across the world…The sole aim of our every policy, every decision, every action has been India first.” pic.twitter.com/hnRN8VKFPu— ANI (@ANI) July 2, 2024हमने तुष्टिकरण नहीं, संतुष्टिकरण कियापीएम मोदी ने कहा, “इस देश ने लंबे अरसे तक तुष्टिकरण की राजनीति भी देखी और तुष्टिकरण की गवर्नेंस का मॉडल भी देखा. देश ने पहली बार सेक्यूलरिज्म का एक पूरा, हमने तुष्टिकरण नहीं, संतुष्टिकरण के विचार को लेकर चले हैं. जब हम संतुष्टिकरण की बात करते हैं तो इसका मतलब है कि आखिरी व्यक्ति तक लाभ पहुंचे. जब हम सैचुरेशन के सिद्धांत की बात करते हैं तो ये सच्चे अर्थ में सामाजिक न्याय और सेक्यूलरिज्म होता है. इस पर देश की जनता ने हमें तीसरी बार बैठाकर मुहर लगा दी है. अपीजमेंट ने देश को तबाह करके रखा है. हम जस्टिस टू ऑल, अपीजमेंट टू नन का सिद्धांत लेकर चले हैं.हमारी नीति और नीयत पर पर लोगों ने भरोसा किया.” कुछ लोगों की पीड़ा समझ सकता हूंपीएम मोदी ने कहा, “हमने दुनिया को दिखा दिया कि ये विश्व का सबसे बड़ा चुनावी अभियान था. देश की जनता ने दुनिया के सबसे बड़े चुनावी अभियान ने हमें चुना है. मैं कुछ लोगों की पीड़ा समझ सकता हूं कि लगातार झूठ चलाने के बावजूद उनकी घोर पराजय हुई.”फर्स्ट टाइम MPs का भी किया जिक्रविपक्षी सांसदों के भाषण को लेकर पीएम मोदी ने कहा, “मैं विशेषकर पहली बार जो हमारे बीच सांसद बनकर आए हैं, उन्होंने जो विचार रखे, संसद के सभी नियमों का पालन करके हुए किए. उनका व्यवहार ऐसा था, जैसा किसी अनुभवी सांसद का होता है. इसलिए पहली बार आने के बावजूद भी उन्होंने सदन की गरिमा बढ़ाई और अपने विचारों से इस डिबेट को मूल्यवान बनाया है.पीएम मोदी ने कहा, “विकसित भारत के संकल्प को राष्ट्रपति ने विस्तार दिया है. उन्होंने हम सबका और देश का मार्गदर्शन किया है.” राहुल गांधी ने क्या कहा?सोमवार को नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने हिंदुत्व, अयोध्या, जम्मू-कश्मीर, अग्निवीर स्कीम समेत कई अहम मुद्दों को लेकर BJP पर निशाना साधा था. राहुल ने BJP पर देश में हिंसा, नफरत और डर फैलाने का आरोप लगाया. उन्होंने दावा किया कि ये लोग हिंदू नहीं हैं. राहुल के इस दावे का सत्ता पक्ष के सदस्यों ने विरोध भी जताया. विरोध जताने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपनी जगह से खड़े हो गए. उन्होंने कहा कि पूरे हिंदू समाज को हिंसक कहना बहुत गंभीर विषय है. ऐसे में माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi Speech) लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी की ओर से लगाए गए आरोपों का भी जवाब देंगे. अखिलेश यादव ने उठाया अयोध्या में जीत का मुद्दाइससे पहले मंगलवार को लोकसभा में भी राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा हुई. आज सबसे पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने सदन में अपनी बात रखी. उन्होंने कहा- “हम बचपन से सुनते आए हैं- होइहि सोइ जो राम रचि राखा. अयोध्या की जीत ने इसे साबित कर दिया. जो कहते थे हम उनका लाए हैं, उन्होंने उन्हें हरा दिया.”BJP ने कांग्रेस पर किया पलटवारइस दौरान BJP ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि उसने लोकसभा चुनाव में भय फैलाने और भ्रम की राजनीति की. संसद पर हमले के दोषी का समर्थन करने वालों को टिकट दिया. BJP ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने ऐसे लोगों को टिकट दिया, जिन्होंने देश के प्रधानमंत्री को लेकर गलत बयानबाजी की थी.

नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने हिंदुत्व, अयोध्या, जम्मू-कश्मीर, अग्निवीर स्कीम समेत कई अहम मुद्दों को लेकर BJP पर निशाना साधा था. उन्होंने दावा किया कि ये लोग हिंदू नहीं हैं. राहुल के इस दावे का विरोध जताने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपनी जगह से खड़े हो गए थे.
Bol CG Desk

Related Articles

Back to top button