Quick Feed

देशभर में मानसून की दस्तक! कई राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी; जानें क्या है IMD का अलर्ट

देशभर में मानसून की दस्तक! कई राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी; जानें क्या है IMD का अलर्टगुजरात और राजस्थान सहित देश के कई हिस्सों में रविवार को भारी बारिश हुई जिससे सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ. दक्षिण-पश्चिम मानसून देश के उत्तरी राज्यों की ओर आगे बढ़ रहा है. देश भर में बारिश से संबंधित घटनाओं जैसे बिजली गिरने और डूबने से कई लोगों की मौत की खबर है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार महाराष्ट्र, बिहार, राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और अरुणाचल प्रदेश उन राज्यों में शामिल हैं जहां रविवार को भारी बारिश हुई. साथ ही मौसम‍ विभाग ने अगले चार-पांच दिनों तक कई राज्‍यों में भारी से बहुत भारी बारिश का अनुमान जताया है. मौसम विभाग ने 02 जुलाई तक हिमाचल प्रदेश, 04 जुलाई तक उत्तराखंड, 01 और 02 जुलाई को पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्‍ली और उत्तर प्रदेश के अलग-अलग स्‍थानों पर 3 जुलाई तक भारी बारिश का अनुमान जताया है.पंजाब में 01 और 02 जुलाई, 2024 को अलग-अलग स्थानों पर भारी (64.5-115.5 मिलीमीटर) से बहुत भारी वर्षा (115.5-204.4 मिलीमीटर) होने की संभावना है। pic.twitter.com/2z0cumf5gp— India Meteorological Department (@Indiametdept) June 30, 2024हरियाणा, चंडीगढ़ एवं दिल्ली में 30 जून से 03 जुलाई, 2024 के दौरान अलग-अलग स्थानों पर भारी (64.5-115.5 मिलीमीटर) से बहुत भारी (115.5-204.4 मिलीमीटर) वर्षा होने की संभावना है। pic.twitter.com/H4IkIPQKBd— India Meteorological Department (@Indiametdept) June 30, 2024इसके साथ ही 01 जुलाई को पूर्वी राजस्थान, 01 और 03 जुलाई को उप हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में 4 मई तक अलग-अलग स्‍थानों पर भारी बारिश की संभावना है तो मौसम विभाग का अनुमान है कि बिहार में 2 जुलाई तक भारी बारिश हो सकती है. आईएमडी ने कहा कि सौराष्ट्र क्षेत्र से सटे उत्तर-पूर्व अरब सागर पर चक्रवाती परिसंचरण के कारण गुजरात में बारिश का दौर चल रहा है. अधिकारियों ने बताया कि भारी बारिश के कारण सूरत, भुज, वापी, भरूच और अहमदाबाद शहर के कई इलाकों में जलभराव हो गया और निचले इलाकों में पानी भर जाने के कारण यातायात प्रभावित हुआ, जिससे कुछ सड़कें और अंडरपास दुर्गम हो गए. सूरत जिले के पलसाना तालुका में दस घंटों में 153 मिमी बारिश हुई, जो राज्य में सबसे अधिक है.मौसम विभाग के अनुसार गुजरात में अगले चार दिनों तक बारिश का दौर जारी रहेगा. आईएमडी ने एक विज्ञप्ति में कहा कि दक्षिण और मध्य गुजरात तथा सौराष्ट्र क्षेत्र में रविवार के बाद सोमवार को भी अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश बारिश होने का अनुमान है.गुजरात क्षेत्र में 30 जून और 01 जुलाई, 2024 को अलग-अलग स्थानों पर भारी (64.5-115.5 मिलीमीटर) से बहुत भारी (115.5-204.4 मिलीमीटर) वर्षा होने की अत्यधिक संभावना है। pic.twitter.com/K3x8l7RBHm— India Meteorological Department (@Indiametdept) June 30, 2024मंगलवार तक दिल्‍ली में भारी बारिश का पूर्वानुमान दिल्ली में मंगलवार तक भारी बारिश के पूर्वानुमान के बीच नगर निकायों ने जलभराव की समस्या से निपटने के लिए तैयारियां तेज कर दी हैं जिसके तहत कर्मचारियों और उपकरणों की तैनाती बढ़ाने समेत क्षेत्रीय इकाइयों को सतर्क रखने के कदम उठाए गए हैं.राष्ट्रीय राजधानी में मानसून आगमन के पहले दिन शुक्रवार की सुबह 228.10 मिलीमीटर बारिश हुई, जो 1936 के बाद जून माह में अब तक की सर्वाधिक वर्षा है. बारिश से शहर के कई हिस्सों में जलभराव हो गया और कई लोगों की जान चली गई.राजस्‍थान के भरतपुर संभाग में भारी से बहुत भारी बारिश राजस्थान के कई हिस्सों में रविवार को भारी बारिश हुई. चुरू में सबसे अधिक 51.4 मिमी बारिश दर्ज की गई, जबकि शहर में तापमान 40.2 डिग्री सेल्सियस रहा. पिछले 24 घंटों में भरतपुर संभाग के कुछ हिस्सों में भारी से बहुत भारी बारिश दर्ज की गई. यहां पर 24 घंटों के दौरान धौलपुर के बाड़ी में 12 और बसेड़ी में 11 सेमी बारिश दर्ज की गई. वहीं भरतपुर जिले के नगर में 10, कुम्‍हेर में 9 और डीग में 8 सेमी बारिश दर्ज की गई. East Rajasthan : Heavy to Very heavy Rainfall during past 24 hours of 30.06.2024#weatherupdate #significantrainfall #veryheavyrain@moesgoi @ndmaindia @DDNational @airnewsalerts pic.twitter.com/d32nYWchdr— India Meteorological Department (@Indiametdept) June 30, 2024मौसम विभाग ने अगले चार-पांच दिनों में पूर्वी राजस्थान के कुछ हिस्सों में भारी बारिश और पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश का अनुमान जताया है. राज्य में अधिकतम तापमान श्रीगंगानगर में 41.3 डिग्री दर्ज किया गया.देवरिया में बिजली गिरने से दो लोगों की मौत वहीं, उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में पुलिस ने बताया कि रविवार को बिजली गिरने की अलग-अलग घटनाओं में एक पुजारी समेत दो लोगों की मौत हो गई, जबकि सात अन्य घायल हो गए.पुलिस के अनुसार, यह घटना अपराह्न करीब एक बजे हुई, जब इलाके में भारी बारिश हो रही थी. गोपालपुर गांव में स्थित मंदिर में बिजली गिरने के समय मंदिर के पुजारी राधेश्याम गिरी (50) समेत कुछ लोग मंदिर में शरण लिए हुए थे.दूसरी घटना में, राजनाथ कुशवाहा (40) उस समय बिजली की चपेट में आ गए जब वे अपने खेतों में धान की बुवाई कर रहे थे. उनकी मौके पर ही मौत हो गई.​​​​​लोनावाला इलाके में दो की मौत, 3 लापता इस बीच, महाराष्ट्र में रविवार को पुणे के लोनावाला इलाके में भुशी बांध के पास एक झरने में एक महिला और 13 वर्षीय एक लड़की डूब गई, जबकि 4-6 आयु वर्ग के तीन बच्चे लापता हैं.पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि यह घटना अपराह्न डेढ़ बजे हुई जिसके बाद खोज एवं बचाव दल मौके पर पहुंच गए.पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि वे एक ही परिवार के सदस्य हैं और भुशी बांध से करीब दो किलोमीटर दूर एक झरने में फिसलकर गिर गए और नीचे जलाशय में डूब गए.”भूस्‍खलन के कारण किश्तवाड़-पद्दार मार्ग अवरुद्धजम्मू-कश्मीर में रविवार को भूस्खलन के कारण किश्तवाड़-पद्दार मार्ग अवरुद्ध हो गया, जबकि जम्मू संभाग के अलग-अलग स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई, जिससे लोगों को चिलचिलाती गर्मी से कुछ राहत मिली.किश्तवाड़ जिले में रविवार अपराह्न बारिश के कारण पथरनाकी के निकट सड़क पर भूस्खलन हो गया, जिससे वाहनों की आवाजाही रोकनी पड़ी.जम्मू प्रांत के अधिकांश हिस्सों में दिनभर बादल छाए रहे और विभिन्न क्षेत्रों, खासकर किश्तवाड़, डोडा, राजौरी, पुंछ, उधमपुर और रामबन के पहाड़ी जिलों में हल्की से मध्यम बारिश की खबरें हैं. ग्रीष्मकालीन राजधानी जम्मू में भी सुबह-सुबह हल्की बारिश हुई.मौसम विभाग ने तीन जुलाई तक देर रात या सुबह के समय जम्मू संभाग के कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश या गरज के साथ बौछारें पड़ने का अनुमान जताया है. इसके बाद चार से सात जुलाई तक अधिकांश स्थानों पर रुक-रुक कर हल्की से मध्यम बारिश और कुछ स्थानों पर भारी वर्षा होने का अनुमान है.मौसम विभाग ने अचानक बाढ़, भूस्खलन और पत्थर गिरने की चेतावनी भी जारी की है. उत्तराखंड के हल्द्वानी, रामनगर, देहरादून, हरिद्वार, उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद, पटना और हैदराबाद में भारी बारिश के बाद कई सड़कें जलमग्न हो गईं.बिहार में रविवार को कई स्‍थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश हुई है. बिहार के जहानाबाद में बारिश का पानी अस्पताल में घुस गया. मौसम विभाग ने बिहार में 02 जुलाई तक अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना जताई है. बिहार में 30 जून-02 जुलाई, 2024 के दौरान अलग-अलग स्थानों पर भारी (64.5-115.5 मिलीमीटर) से बहुत भारी वर्षा (115.5-204.4 मिलीमीटर) होने की अत्यधिक संभावना है। pic.twitter.com/2988RFoEyq— India Meteorological Department (@Indiametdept) June 30, 2024मानसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियांआईएमडी ने शनिवार को अगले चार से पांच दिनों में उत्तर-पश्चिम और पूर्वोत्तर भारत में भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान जताया है. साथ ही कहा कि दक्षिण-पश्चिम मानसून शनिवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश के शेष हिस्सों और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में आगे बढ़ गया है.मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो से तीन दिनों में पश्चिमी राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़, पंजाब के अधिक भागों तथा पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और जम्मू के शेष क्षेत्रों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं.ये भी पढ़ें :* दिल्ली में जारी रहेगा भारी बारिश का सिलसिला, IMD ने जारी किया अलर्ट* NDTV Telethon:जलवायु परिवर्तन पर काबू कैसे पाएं, एक्सपर्ट से जानें 7 तरीके* Monsoon Health Tips: मॉनसून में बच्चों को बीमार होने से बचाने और सेहतमंद रखने के लिए अपनाएं ये तरीके

मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों तक उत्तर-पश्चिम और पूर्वोत्तर भारत में भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान जताया है. साथ ही कहा है कि मानसून के आगे बढ़ने के लिए भी परिस्थितयां अनुकूल हैं.
Bol CG Desk

Related Articles

Back to top button