Quick Feed

Explainer: क्या होगा अगर जो बाइडन अमेरिकी राष्ट्रपति पद की दौड़ से हटने का लेते हैं फैसला?

Explainer: क्या होगा अगर जो बाइडन अमेरिकी राष्ट्रपति पद की दौड़ से हटने का लेते हैं फैसला?अमेरिका (America) में राष्ट्रपति पद के लिए होने वाले चुनाव के तहत अटलांटा में हुई बहस में खराब प्रदर्शन के बाद सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक पार्टी और मुख्यधारा की अमेरिकी मीडिया में राष्ट्रपति जो बाइडन के चुनावी दौड़ से हटने की मांग बढ़ रही है. बाइडन (81) और उनके प्रचार अभियान ने कहा कि वह हार नहीं मान रहे हैं और पांच नवंबर को होने वाले चुनाव के लिए सफलतापूर्वक मुकाबला करने के लिए कटिबद्ध हैं. प्रचार अभियान के नेतृत्व ने कहा, ‘‘बाइडन डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रत्याशी हैं. प्रत्याशी नहीं बदला जा रहा है.” अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बाइडन ने डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने के लिए प्राइमरी चुनाव में जीत हासिल कर ली है. आइए जानते हैं कि अगर बाइडन राष्ट्रपति पद की दौड़ से हटने का फैसला लेते हैं तो क्या होगा?संभावित उम्मीदवार कौन हैं?उपराष्ट्रपति कमला हैरिस, कैलिफोर्निया के गवर्नर गेविन न्यूसोम, मिशिगन के गवर्नर ग्रेचेन व्हिटमर और पेंसिल्वेनिया के गवर्नर जोश शापिरो उन नामों में से हैं जो पार्टी का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं.  इस बीच, अमेरिकी सीनेटर टेड क्रूज़ (आर-टेक्सास) ने संभावना जतायी है कि पूर्व प्रथम महिला मिशेल ओबामा जो बाइडन की जगह ले सकती हैं.  अपने पॉडकास्ट पर बोलते हुए क्रूज़ ने कहा, “लगभग 80% संभावना है कि डेमोक्रेटिक पार्टी जो बाइडन की जगह मिशेल ओबामा को उम्मीदवार बना सकती है. क्या ऐसा पहले भी हुआ है?1968 में, राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने उम्मीदवारी से पीछे हटने का फैसला करके सबको चौंका दिया था. उन्होंने यह घोषणा वियतनाम युद्ध के बीच में की थी. जो बाइडन क्या कह रहे हैं?राष्ट्रपति जो बाइडन ने आगामी नवंबर चुनावों में डोनाल्ड ट्रम्प को हराने का इरादा व्यक्त किया है. एक रैली में बोलते हुए उन्होंने कहा, “स्पष्ट रूप से कहा जाए तो मैं जानता हूं कि मैं एक युवा व्यक्ति नहीं हूं. मैं पहले की तरह आसानी से नहीं चलता, मैं पहले की तरह सहजता से नहीं बोलता.  मैं पहले की तरह बहस नहीं कर पाता हूं. अगर मुझे पूरे दिल और आत्मा से विश्वास नहीं होता कि मैं यह काम कर सकता हूं तो मैं दोबारा दौड़ नहीं लगाऊंगा. यह बयान राष्ट्रपति बाइडन और डोनाल्ड ट्रंप के बीच तीखी बहस के एक दिन बाद सामने आया है. बाइडन और ट्रंप के बीच बहस में ट्रंप दिखे थे मजबूत अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए टेलीविजन पर प्रसारित पहली बहस (डीबेट) देखने वाले ज्यादातर लोगों की नजर में मौजूदा राष्ट्रपति जो बाइडन के मुकाबले पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रदर्शन बेहतर रहा. यह वर्ष 2020 की उस स्थिति के उलट है, जब बहस देखने वालों ने 81 वर्षीय डेमोक्रेट (बाइडन) को उनके रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी ट्रंप के मुकाबले बेहतर उम्मीदवार के रूप में देखा था.  व्हाइट हाउस में दूसरा कार्यकाल पाने के इच्छुक बाइडन बहस के दौरान लड़खड़ाते नजर आए जिससे डेमोक्रेट के शीर्ष नेताओं के बीच इस बात को लेकर खतरे की घंटी बज गई है कि क्या मौजूदा राष्ट्रपति अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले के कठिन महीनों के दौरान शीर्ष पर रह सकते हैं.पांच नवंबर को होने वाले चुनाव को लेकर दोनों नेताओं के बीच गुरुवार को करीब 90 मिनट तक आक्रामक बहस हुई थी.  इस दौरान अर्थव्यवस्था, आव्रजन, विदेश नीति, गर्भपात और राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर राष्ट्रपति बाइडन और रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के भावी उम्मीदवार माने जा रहे 78-वर्षीय ट्रंप के बीच वार-पलटवार देखने को मिला। दोनों नेताओं ने एक दूसरे को झूठा और अमेरिका के इतिहास का सबसे खराब राष्ट्रपति करार दिया. ये भी पढ़ें-:जो बाइडेन और डोनाल्ड ट्रंप के बीच पहली प्रेसिडेंशियल डिबेट, जानें कैसे तय होगी जीत-हार, टॉस का क्या है रोल

1968 में, राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने उम्मीदवारी से पीछे हटने का फैसला करके सबको चौंका दिया था. उन्होंने यह घोषणा वियतनाम युद्ध के बीच में की थी. 
Bol CG Desk

Related Articles

Back to top button